परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत किसानों को 3 साल के लिए 50000 रूपये प्रति हेक्टेयर की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। इसमें 31000 रूपये प्रति हेक्टेयर 3 साल के लिए जैविक खाद, कीटनाशक, बीज आदि जैसे जैविक पदार्थों की खरीद के लिए प्रदान किया जाता है।

इसके आलावा 8800 रूपये प्रति हेक्टेयर मूल्यवर्धन और विपणन के लिए 3 साल के लिए दिए जाते हैं। बता दें कि परम्परागत कृषि विकास योजना 2022 के तहत पिछले 4 सालों में 1197 करोड़ रूपये खर्च किए गए हैं। साथ ही क्लस्टर निर्माण और क्षमता निर्माण के लिए 3 साल के लिए 3000 रूपये प्रति हेक्टेयर की वित्तीय सहायता दी जाती है।

इस योजना में कैसे करें आवेदन:

सबसे पहले इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।

इसके बाद होम पेज पर Apply Now पर क्लिक करें।

यहां पर आवेदन फॉर्म खुलेगा।

आवेदन फॉर्म में मांगी गई सारी जानकारी नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी आदि दर्ज करें।

इसके बाद सभी जरूरी डॉक्युमेंट्स अपलोड कर दें।

अब आप सबमिट बटन पर क्लिक कर दें।

इस तरह आपका आवेदन पूरा हो जाएगा।